तृतीय तल,लेखराज पन्ना मार्केट
सेक्टर-२, विकास नगर - लखनऊ
: 0522-2738692
: 0522-2738695
nvsrolko@rediffmail.com
कक्षा -6

 

Sr.No Title Action
01  जवाहर नवोदय विद्यालय चयन टेस्ट 2018 के प्रवेश पत्र डाउनलोड करने के निर्देश Download
02 जवाहर नवोदय विद्यालय चयन टेस्ट 2018 का प्रवेश पत्र डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें Download
03 जेएनवीएसटी -2018 सहायता डेस्क Download

जवाहरनवोदय विद्यालय में कक्षा-6 में प्रवेष
    जवाहर नवोदय विद्यालयों में प्रवेष राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगी परीक्षा द्वारा किया जाता ह,ै जिसका आयोजन केन्द्रीय माध्यमिक षिक्षा बोर्ड द्वारा कराया जाता है एवं बच्चों को कक्षा-6 में प्रवेष दिया जाता है। क्षेत्रीस्तरीय परीक्षा/पूर्ववर्ती परीक्षा के अंकों के आधार पर क्रमषः कक्षा-9 एवं कक्षा-11 में भी रिक्त स्थानों के आधार पर बच्चों को प्रवेष दिया जाता है। नवोदय विद्यालय में षिक्षा निःषुल्क दी जाती है। सम्पूर्ण रिक्तियों में से 75 प्रतिषत स्थान ग्रामीण बच्चों के लिए आरक्षित हैं, जिसमें कम से कम 33 प्रतिषत स्थान बालिकाओं के लिए आरक्षित किया जाता है। अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के लिए क्रमषः 15 प्रतिषत एवं 7.5 प्रतिषत स्थान आरक्षित है। स्थापना योजना के अन्तर्गतदेष के प्रत्येक जिले में एक जवाहर नवोदय विद्यालय होगा।
    प्रवेष का माध्यम 21 भारतीय भाषाएं एवं यह बृहद स्तर पर लिखित बहु विकल्पीय हैऔर ऐसा डिजाइन (अभिकल्पित) किया गया है, जिसमें ग्रामीण क्षेत्र के प्रतिभाषाली बच्चे बिना किसी असुविधा के पूर्ण कर सकें। सभी बच्चे जो जिले के किसी भी मान्यता प्राप्त विद्यालय में कक्षा-5 में अध्ययनरत हैं एवं जिनकी उम्र 09 से 13 वर्ष के मध्य है।वे जवाहर नवोदय विद्यालय प्रवेष परीक्षा में प्रतिभाग करने के योग्य हैं।
    योजना के अनुसार प्रत्येक वर्ष जवाहर नवोदय विद्यालय में कक्षा-6 में अधिकतम 80 विद्यार्थियों का प्रवेष लिया जा सकता है। यद्यपि आवास की कमी होने पर कुछ विद्यालयों में इसे केवल 40 रखा गया है।
जवाहर नवोदय विद्यालयों में कक्षा-6 में प्रवेष हेतु चयन परीक्षा चयन परीक्षा :-
ज्वाहर नवोदय विद्यालयों में प्रवेष केन्द्रीय माध्यमिक षिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित चयन परीक्षा के आधार पर दिया जाता है। इस परीक्षा को जवाहर नवोदय विद्यालय चयन परीक्षा कहा जाता है। यह चयन परीक्षा वस्तुनिष्ठ एवं लिखित रूप् में होती है तथा इसे यह सुनिष्चित करते हुए तैयार किया जाता है कि ग्रामीण क्षेत्रों के प्रतिभाषाली बच्चे किसी असुविधा के बिना इस परीक्षा में प्रतिस्पर्धा कर सकें। इस बात का विषेष ध्यान रखा जाता है कि दूर-दराज के ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चे बिना किसी कठिनाई के निःषुल्क प्राप्त कर सकें। दूरदर्षन, आकाषवाणी, स्थानीय समाचार पत्रों, सूचनापत्रों के माध्यम से एवं विद्यालय वेबसाइट और जिले के स्थानीय स्कूलों में नवोदय विद्यालयों के षिक्षकों और प्राचार्यों के दौरों के माध्यम से व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाता है।
पात्रता की षर्तें :-
नवोदय विद्यालयों में प्रवेष हेतु चयन परीक्षा में बैठने के लिए प्रात्राता की निम्नलिखित षर्तें पूरी करनी होती हैं-

सभी उम्मीदवारों के लिए :-
प्रवेश परीक्षा में चयनित अभ्यथ्यिं के अभिभावकों को प्रवेष के समय निम्न लिखित प्रमाणपत्र प्रस्तुत करने होंगे-
(क) निर्धारित प्रपत्र पर आवास प्रमाणपत्र एवं षपथ पत्र संबंधित विद्यालय द्वारा मांगे गए अन्य प्रमाण पत्रों के साथ जमा करना होगा।
(ख) ग्रामीण क्षेत्र के आरक्षण के अधीन प्रवेष लेने के इच्छुक अभ्यर्थी के अभिभावक को इस आषय का षपथ पत्र देना होगा कि वे अधिसूचित ग्रामीण क्षेत्र में निवास कर रहे हैं एवं उनका पाल्य अधिसूचित ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालय में अध्ययनरत है।
चयन परीक्षा में प्रतिभाग हेतु अभ्यर्थी को निम्नलिखित योग्यता षर्तें पूर्ण करनी होगीं-
ऽ    चयन परीक्षा में भाग लेने वाले प्रत्याषी को उसी जिले के जिसमें की वह प्रवेष लेना चाहता है, पूरे षैक्षणिक सत्र में किसी सरकारी/सरकारी सहायता प्राप्त या मान्यता प्राप्त विद्यालय में अथवा सर्वषिक्षा अभियान योजना के अंतर्गत किसी विद्यालय में अथवा मुक्त विद्यालयी षिक्षा संस्थान के ‘बी’ प्रमाण-पत्र योजना पाठ्यक्रम में कक्षा-5 में अवष्य अध्ययनरत होना चाहिए।
ऽ    जो अभ्यर्थी प्रवेष लेना चाहता है उसकी आय ुमें 09 वर्ष से 13 वर्ष के बीच होनी चाहिए। यह षर्त सभी वर्गों के प्रत्याषियों पर लाग ूहोती है, जिसमें अनुसूचित जाति एवं अनुसूचितजन जाति के प्रत्याषी भी षमिलहैं।
ऽ    ग्रामीण वर्ग में प्रवेष पाने के इच्छुक प्रत्याषी का पिछले तीन वर्षो ंमें लगातार तीन सत्रों में स्थानीय सरकारी/सरकारी सहायताप्राप्त/मान्यता प्राप्त स्कूल में कक्षा-3,4 और 5 की परीक्षाओं को उत्तीर्ण किया हो और प्रतिवर्ष एक पूर्ण षैक्षणिक सत्र ग्रामीण क्षेत्र में पूरा किया हो।
ऽ    वे अभ्यर्थी आवेदन के पात्र नहीं होंगे जिन्हें नवम्बर से पूर्व अगली कक्षा में पंजीकृत किया गया हो और कक्षा-5 में प्रवेष न दिया गया हो।
ऽ    किसी भी स्थिति में कोई भी प्रत्याषी चयन परीक्षा में दूसरी बार बैठने का पात्र नहीं होगा।

उन अभिभाव कों हेतु जिनके पाल्य/पाल्य ने चयन परीक्षा उत्तीर्ण की है, प्रवेष के समय निम्नलिखित प्रपत्र जमा करेंगे-
(।) षपथ प्रमाण पत्र/निवास प्रमाण पत्र निर्धारित प्रारूप् में एवं दूसरे प्रपत्र जो संबंधित विद्यालय द्वारा मांगे गये हों।
(।।) अभ्यर्थी जिनका प्रवेष ग्रामीण वर्ग में हुआ है उनके अभिभावक एक षपथपत्र जमा करेंगे कि - उनकापाल्य/पाल्या जिस संस्थान में पढ़ रहा है वह ग्रामीण क्षेत्र में स्थित है एवं वे ग्रामीण क्षेत्र में निवास कर रहे हैं।उक्त सभी षर्तें बिना किसी जाति या लिंग भेद भाव के सभी वर्गों पर लागू होंगी।
आरक्षण :-
जिले में कम से कम 75 प्रतिषत स्थान ग्रामीण क्षेत्रों में चुने हुए अभ्यर्थियों से भरे जांएगे और षेष स्थान जिले के षहरी क्षेत्रों से भरे जायेंगे।
         ऐसा अभ्यर्थी जिसने एक दिन भी किसी षहरी क्षेत्र में स्थित किसी भी कक्षा-3, 4 या 5 में अध्ययन किया हो, षहरी प्रत्याषी माना जाएगा। षहरी क्षेत्र वे हैं जो वर्ष 2001 की जनगणना या उसके बाद सरकारी अधिसूचना द्वारा षहरी क्षेत्र घोषित किए हैं। अन्य सभी क्षेत्रों को ग्रीमीण क्षेत्र माना जाएगा। अनुसूचितजाति और अनुसूचित जनजाति की सीट का आरक्षण संबंधित जिले की जनसंख्या के अनुपात में एवं राष्ट्रीय अनुपात में दिया जाता है। किन्तु किसी भी परिस्थिति में राष्ट्रीय अनुपात 15 प्रतिषत अनुसूचित से कम तथा 50 प्रतिषत (अनुसूचित जाति और जनजाति को छोड़कर) से अधिकन हीं होना चाहिए। यह आरक्षण अन्तर परिवर्तनीय है और खुली वरीयता सूची के अन्तर्गत चयनित अभ्यर्थियों के अतिरिक्त लागू होगा।
    कुल  स्थानों में से एक तिहाई स्थान बालिकाओं द्वारा भरे जायेंगे। 3 प्रतिषन स्थान दिव्यांगों (अस्थि, श्रव्य एवं दृष्टि दिव्यांग) द्वारा भरे जाने का प्रावधान है।